banner
May 13, 2021
18 Views
0 0

Friendship Dosti Shayari – Hum Wo Dost Hain

Written by
banner

Ishq Aur Dosti Meri Zindgi Ke Do Jahan Hain,
Ishq Meri Rooh Toh Dosti Mera Imaan Hai,
Ishq Pe Kar Doon Fida Apni Saari Zindgi,
Magar Dosti Pe Toh Mera Ishq Bhi Qurbaan Hai.
इश्क़ और दोस्ती मेरी ज़िन्दगी के दो जहाँ है,
इश्क़ मेरा रूह तो दोस्ती मेरा ईमान है,
इश्क़ पे कर दूँ फ़िदा अपनी सारी ज़िन्दगी,
मगर दोस्ती पे तो मेरा इश्क़ भी कुर्बान है।

Hum Woh Phool Hain Jo Roz Nahi Khilte,
Yeh Woh Honth Hain Jo Kabhi Nahi Silte,
Hum Se Bichhdoge Toh Ehsaas Hoga Tumhe,
Hum Woh Dost Hain Jo Roz Roz Nahi Milte.
हम वो फूल हैं जो रोज़ रोज़ नहीं खिलते,
यह वो होंठ हैं जो कभी नहीं सिलते,
हम से बिछड़ोगे तो एहसास होगा तुम्हें,
हम वो दोस्त हैं जो रोज़ रोज़ नहीं मिलते।

Kis Had Tak Jana Hai Yeh Kaun Janta Hai,
Kis Manzil Ko Pana Hai Yeh Kaun Janta Hai,
Dosti Ke Do Pal Jee Bhar Ke Jee Lo,
Kis Roz Bichhad Jana Hai Yeh Kaun Janta Hai.
किस हद तक जाना है ये कौन जानता है,
किस मंजिल को पाना है ये कौन जानता है,
दोस्ती के दो पल जी भर के जी लो,
किस रोज़ बिछड जाना है ये कौन जानता है।

Article Categories:
Friendship Dosti Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.