banner
May 13, 2021
16 Views
0 0

Friendship Dosti Shayari – Dost LaJawab Rakhta Hoon

Written by
banner

Aadatein Alag Hain Meri Duniya Walo Se,
Dost Kam Rakhta Hoon Par LaJawab Rakhta Hoon.
आदतें अलग हैं मेरी दुनिया वालों से,
दोस्त कम रखता हूँ पर लाजवाब रखता हूँ।

Sachche Dost Kabhi Girne Nahi Dete,
Na Kisi Ki Najron Se Na Kisi Ke Kadmon Mein.
सच्चे दोस्त हमें कभी गिरने नहीं देते,
न किसी कि नजरों मे न किसी के कदमों में।

Apni Dosti Ka Bas Itna Sa Usool Hai,
Jab Tu Qabool Hai Toh Tera SabKuchh Qabool Hai.
अपनी दोस्ती का बस इतना सा उसूल है,
जब तू कबूल है तो तेरा सब-कुछ कुबूल है।

Dosto Se Bichhad Ke Yeh Ehsaas Hua Hai,
Beshak Kameene The Lekin Raunak Unhien Se Thi.
दोस्तों से बिछड़ के यह एहसास हुआ है,
बेशक कमीने थे लेकिन रौनक उन्हीं से थी।

Dushman Ke Sitam Ka Khauf Nahi Humko,
Hum Toh Doston Ke Roothh Jane Se Darte Hain.
दुश्मन के सितम का खौफ नहीं हमको,
हम तो दोस्तों के रूठ जाने से डरते हैं।

Mere Dosto Ki Pahchan Itni Mushkil Nahi,
Wo Hansna Bhool Jate Hain Mujhe Rota DekhKar.
मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं,
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर।

Hum Waqt Gujarne Ke Liye Dost Nahi Rakhte,
Doston Ke Saath Rahne Ke Liye Waqt Rakhte Hain.
हम वक्त गुजारने के लिए दोस्त नहीं रखते,
दोस्तों के साथ रहने के लिए वक्त रखते हैं।

Article Categories:
Friendship Dosti Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.