banner
May 13, 2021
49 Views
0 0

Four Line Shayari – Woh Khush Hai

Written by
banner

Woh Khush Hai Par Shayad Hum Se Nahi,
Woh Naraz Hai Par Shayad Hum Se Nahi,
Kon Kehta Hai Unke Dil Me Mohabbat Nahi,
Mohabbat To Hai Par Shayad Humse Nahi.

वह खुश है पर शायद हम से नहीं,
वह नाराज़ है पर शायद हम से नहीं,
कोन कहता है उनके दिल में मोहब्बत नहीं,
मोहब्बत तो है पर शायद हमसे नहीं।

Zaroori Nahi Ki Jeene Ka Koi Sahara Ho,
Zaroori Nahi Ki Jiske Hum Ho Wo Bhi Humara Ho,
Kuchh Kashtiyan Doob Jaya Karti Hain,
Zaroori Nahi Ke Har Kashti Ke Naseeb Me Kinara Ho.

ज़रूरी नहीं कि जीने का कोई सहारा हो,
ज़रूरी नही की जिसके हम हो वह भी हमारा हो,
कुछ कश्तियां डुब जाया करती हैं,
ज़रूरी नही के हर कश्ती के नसीब में किनारा हो।

Hamari Dastan Use Kaha Kabul Thi,
Meri Wafayen… Uske Liye Fizool Thi,
Koi Aas Nahi Lekin Itna Bata Do,
Maine Chaha Use… Kya Ye Meri Bhool.

हमारी दास्तां उसे कहां कबूल थी,
मेरी वफाएं… उसके लिए फ़िज़ूल थी,
कोई आस नहीं लेकिन इतना बता दो,
मैंने चाहा उसे… क्या ये मेरी भूल।

Article Categories:
Four Line Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.