banner
May 13, 2021
15 Views
0 0

Dua Shayari – Apni Duaaon Ka Asar

Written by
banner

माँगा करेंगे अब से दुआ हिज्र-ए-यार की,
आखिर को दुश्मनी है दुआ की असर के साथ।
Maanga Karenge Ab Se Duaa Hijr-e-Yaar Ki,
Akhir Ko Dushmani Hai Duaa Ki Asar Ke Saath.

वो आ गए मिलने हमसे एक शाम तन्हाई मिटाने,
और हम समझ बैठे इसे अपनी दुआओं का असर।
Wo Aa Gaye Milne Humse Ek Shaam Tanhayi Mitane.
Aur Hum Samajh Baithe Ise Apni Duaaon Ka Asar.

जाने किस बात पे उसने मुझे छोड़ दिया है,
मैं तो मुफलिस था किसी की दुआओं की तरह।
Jaane Kis Baat Pe Usne Mujhe Chhod Diya Hai,
Main To Muflis Tha Kisi Ki Duaaon Ki Tarah.

भूल न जाऊं माँगना उसे हर नमाज़ के बाद,
यही सोच कर हमने नाम उसका दुआ रक्खा है।
Bhool Na Jaaun Maangna Usey Har Namaaz Ke Baad,
Yehi Soch Kar Hum Ne Naam Uska Duaa Rakkha Hai.

हजार बार जो माँगा करो तो क्या हासिल,
दुआ वही है जो दिल से कभी निकलती है।
Hajaar Baar Jo Maanga Karo To Kya Haasil,
Dua Wahi Hai Jo Dil Se Kabhi Nikalti Nahi.

उल्फत-ए-यार में खुदा से और माँगू क्या,
ये दुआ है कि तू दुआओं का मोहताज न हो।
Ulfat-e-Yaar Mein Khuda Se Aur Maangun Kya,
Ye Dua Hai Ke Tu Duaaon Ka Bhi Mohtaaj Na Ho.

Article Categories:
Dua Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.