banner
May 13, 2021
24 Views
0 0

Dosti Mein Kyun Khoya Hai

Written by
banner

Ek Raat Rab Ne Mere Dil Se Poochha,
Tu Dosti Mein Itna Kyun Khoya Hai?
Dil Bola… Doston Ne Hi Di Hai Saari Khushiyan,
Varna Pyaar Karke To Dil Hamesha Roya Hai.
एक रात रब ने मेरे दिल से पूछा,
तू दोस्ती में इतना क्यूँ खोया है?
दिल बोला दोस्तों ने ही दी हैं सारी खुशियाँ,
वरना प्यार करके तो दिल हमेशा रोया है।

Socha Tha Na Karenge Kisi Se Dosti,
Aur Na Hi Karenge Kisi Se Vaada,
Par Kya Karein Dost Mila Itna Pyara,
Ke Karna Pada Dosti Ka Iraada.
सोचा था न करेंगे किसी से दोस्ती,
और न ही करेंगे किसी से वादा,
पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्यारा,
कि करना पड़ा दोस्ती का इरादा।

Dosti Toh Insaan Ki Jarurat Hai,
Dilon Par Dosti Ki Hukoomat Hai,
Aapke Pyar Ki Wajah Se Zinda Hain,
Varna Khuda Ko Bhi Humari Jarurat Hai.
दोस्ती तो इन्सान की ज़रुरत है,
दिलों पर दोस्ती की हुकूमत है,
आपके प्यार की वजह से जिंदा हैं,
वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है।

Article Categories:
Friendship Dosti Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.