banner
May 13, 2021
23 Views
0 0

Dooriyan Shayari – Ye Doori

Written by
banner

Bin Bataye Usne Na Jane Kyu Ye Doori Kar Di,
Bichhad Ke Usne Mohabbat Hi Adhuri Kar Di,
Mere Muqaddar Mein Ghum Aaye To Kya Hua,
Khuda Ne Uski Khwaish To Poori Kar Di.

बिन बताये उसने न जाने क्यों ये दूरी कर दी,
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी,
मेरे मुकद्दर में घूम आये तो क्या हुआ,
खुदा ने उसकी ख्वाइश तो पूरी कर दी।

Galtiyon Se Juda Tu Bhi Nahin Aur Main Bhi Nahin,
Donon Insan Hain Khuda Tu Bhi Nahin, Main Bhi Nahin,
Galatfahamiyon Ne Kar Di Dooriyaan Paida,
Varna Fitarat Ka Bura Tu Bhi Nahin Main Bhi Nahin.

गलतियों से जुदा तू भी नहीं और मैं भी नहीं,
दोनों इंसान हैं ख़ुदा तू भी नहीं, मैं भी नहीं,
गलतफहमियों ने कर दी दूरियां पैदा,
वरना फितरत का बुरा तू भी नहीं मैं भी नहीं।

Meri Guftagu Ke Har Andaz Ko Samajhta Hai,
Ek Vahi Hai Jo Mujhpe Aitbaar Rakhta Hai,
Door Ho Ke Bhi Mujh Se Hai Vo Itna Kareeb,
Aisa Lagta Hai Mere Aas-Paas Rahta Hai.

मेरी गुफ्तगू के हर अंदाज़ को समझता है,
एक वही है जो मुझपे ऐतबार रखता है,
दूर हो के भी मुझ से है वो इतना करीब,
ऐसा लगता है मेरे आस-पास रहता है।

Article Categories:
Dooriyan Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.