banner
May 13, 2021
20 Views
0 0

Dooriyan Shayari – Tu Dur Rah Kar Bhi

Written by
banner

Mere Dil Ko Agar Tera Ehsaas Nahi Hota,
Tu Dur Rah Kar Bhi Yun Paas Nahi Hota,
Iss Dil Mein Teri Chahat Aise Basi Hai,
Ek Lamha Bhi Tujh Bin Khaas Nahi Hota.
मेरे दिल को अगर तेरा एहसास नहीं होता,
तू दूर रह कर भी यूं मेरे पास नहीं होता,
इस दिल में तेरी चाहत ऐसे बसा ली है,
एक लम्हा भी तुझ बिन ख़ास नहीं होता।

Woh Jo Hamare Liye Kuchh Khaas Hote Hain,
Jinke Liye Dil Mein Ehsaas Hote Hain,
Chaahe Waqt Kitna Bhi Dur Kar De Unhein,
Dur Reh Ke Bhi Woh Dil Ke Paas Hote Hain.
वो जो हमारे लिए कुछ ख़ास होते हैं,
जिनके लिए दिल में एहसास होते हैं,
चाहे वक़्त कितना भी दूर कर दे उन्हें,
दूर रह के भी वो दिल के पास होते हैं।

Dur Rah Kar Kareeb Rehne Ki Aadat Hai,
Yaad Bankar Aankhon Se Bahne Ki Aadat Hai,
Kareeb Na Hote Hue Bhi Kareeb Paoge,
Mujhe Ehsaas Bankar Rahne Ki Aadat Hai.
दूर रह कर करीब रहने की आदत है,
याद बन के आँखों से बहने की आदत है,
करीब न होते हुए भी करीब पाओगे,
मुझे एहसास बनकर रहने कि आदत है।

Dooriyon Se Rishton Mein Fark Nahi Padta,
Baat Toh Dil Ki Najdeekiyon Ki Hoti Hai,
Paas Rehne Se Bhi Rishte Nahi Ban Paate,
Warna Mulakaat Toh Roz Kitno Se Hoti Hain.
दूरिओं से रिश्तों में फर्क नहीं पड़ता,
बात तो दिल की नजदीकियों की होती है,
पास रहने से भी रिश्ते नहीं बन पाते,
वरना मुलाकात तो रोज कितनों से होती है।

Article Categories:
Dooriyan Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.