banner
May 13, 2021
22 Views
0 0

Dooriyan Shayari – Dooriyan Jab Bhi Badhi

Written by
banner

Dooriyan Jab Bhi Badhi To Galatfhamiyan Bhi Badh Gayi,
Phir Tumne Vo Bhi Suna Jo Maine Kaha Hi Nahi.

दूरियाँ जब भी बढ़ी तो गलतफहमियां भी बढ़ गयी,
फिर तुमने वो भी सुना जो मैंने कहा ही नही।

Tu Mujhse Dooriyan Badhane Ka Shauk Poora Kar,
Meri Bhi Jid Hai Tujhe Har Dua Mein Magunga.

तू मुझसे दूरियाँ बढ़ाने का शौक पूरा कर,
मेरी भी जिद है तुझे हर दुआ में मागुँगा।

Mana Ki Dooriya Kuch Badh Se Gayi Hain
Lekin Tere Hisse Ka Waqt Aaj Bhi Tanha Gujarta Hai.

मन की दूरियां कुछ बढ़ सी गयी हैं
लेकिन तेरे हिस्से का वक़्त आज भी तनहा गुजरता है।

Tera Mera Dil Ka Rishta Bhi Ajeeb Hai,
Meelon Ki Dooriyan Hai Aur Dhadkan Kareeb Hai.

तेरा मेरा दिल का रिश्ता भी अजीब है,
मीलों की दूरियां है और धड़कन करीब है।

Khud Ke Liye Ik Saja Mukarr Kar Li Maine,
Teri Khushiyon Ki Khatir Tujhse Dooriyan Chun Li Maine.

खुद के लिए इक सजा मुकर्र कर ली मैंने,
तेरी खुशियों की खातिर तुझसे दूरियां चुन ली मैंने।

Mohabbat Mein Fhasle Bhi Jaruri Hai Sahab,
Jitni Doori Utna Hi Gahra Rang Chadhta Hai.

मोहब्बत में फासले भी जरूरी है साहब,
जितनी दूरी उतना ही गहरा रंग चढ़ता है।

Article Categories:
Dooriyan Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.