banner
May 12, 2021
21 Views
0 0

Dil Shayari – Kitna Nadan Hai Dil

Written by
banner

Aaj Bhi Kitna Nadan Hai Dil Samajhta Hi Nahi,
Baad Barson Ke Unhe Dekha Toh Duaayien Maang Baitha.
आज भी कितना नादान है दिल समझता ही नहीं,
बाद बरसों के उन्हें देखा तो दुआएँ माँग बैठा।

Ab Uske Saath Rahun Ya Phir Uss Se Kinara Kar Lu,
Jara Thehar Ja Ai Dil Main Ye Faisla Dobara Kar Lu.
अब उसके साथ रहूँ या फिर उस से किनारा कर लूँ,
जरा ठहर जा ऐ दिल मैं ये फैसला दोबारा कर लूँ।

Ek Hasrat Thi Ke Kabhi Woh Bhi Humein Manaaye,
Par Ye Kambakht Dil Kabhi Unse Roothha Hi Nahi.
एक हसरत थी कि कभी वो भी हमें मनाये,
पर ये कम्ब्खत दिल कभी उनसे रूठा ही नहीं।

Kabhi Aakar Toh Dekh Mere Iss Dil Ki Veeraniyan,
Kitna Haseen Ghar Tha Jo Tere Haathon Ujad Gaya.
कभी आकर तो देख मेरे इस दिल की वीरानियाँ,
कितना हसीन घर था जो तेरे हाँथों उजड़ गया।

Diya Khamosh Hai Lekin Kisi Ka Dil Toh Jalta Hai,
Chale Aao Jahan Tak Roshni Maloom Hoti Hai.
दिया खामोश है लेकिन किसी का दिल तो जलता है,
चले आओ जहाँ तक रोशनी मालूम होती है।

But Bhi Rakhe Hain Namaazein Bhi Adaa Hoti Hain,
Dil Mera Dil Nahi Allah Ka Ghar Lagta Hai.
बुत भी रखे हैं नमाजें भी अदा होती हैं
दिल मेरा दिल नहीं अल्लाह का घर लगता है।

Article Categories:
Dil Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.