banner
May 12, 2021
19 Views
0 0

Dil Shayari – Dil Ki Gustakhiyan

Written by
banner

Dil Ki Bhi Hain Apni Hi Gustakhiyan Badi,
Kise Kab Kyun Chahe Koyi Khabar Nahi.
दिल की भी हैं अपनी ही ग़ुस्ताख़ियाँ बड़ी,
किसे कब क्यूँ चाहे कोई खबर नहीं।

Ye Bhi Ek Tamasha Hai Ishq-o-Mohabbat Mein,
Dil Kisi Ka Hota Hai Jor Kisi Ka Chalta Hai.
ये भी एक तमाशा है इश्क-ओ-मोहब्बत में,
दिल किसी का होता है जोर किसी का चलता है।

Woh Rasta Jo Hamein Uske Dil Tak Le Jata,
Umr Saari Usi Raste Ki Talaash Mein Gujri.
वो रास्ता जो हमें उसके दिल तक ले जाता,
उम्र सारी उसी रस्ते की तलाश में गुजरी।

Ab Jis Ke Jee Mein Aaye Wohi Paaye Roshani,
Hum Ne Toh Dil Jala Kar Sar-e-Aam Rakh Diya.
अब जिस के जी में आये वही पाये रौशनी,
हम ने तो दिल जला कर सरेआम रख दिया।

Mere Labon Ka Tabassum Toh Sabne Dekh Liya,
Jo Dil Pe Beet Rahi Hai Wo Koi Kya Jaane.
मेरे लबों का तबस्सुम तो सबने देख लिया,
जो दिल पे बीत रही है वो कोई क्या जाने।

Ek Lafz Mohabbat Ka Itna Sa Fasaana Hai,
Simte Toh Dil-e-Aashiq Bikhre Toh Zamana Hai.
एक लफ्ज मोहब्बत का इतना सा फसाना है,
सिमटे तो दिल-ए-आशिक बिखरे तो जमाना है।

Article Categories:
Dil Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.