banner
May 12, 2021
19 Views
0 0

Dil Shayari – Dil Ke Mashware

Written by
banner

Kuchh Thokaro Ke Baad Nazakat Aa Gayi Mujhme,
Ab Dil Ke Mashwaro Pe Main Bharosa Nahi Karta.
कुछ ठोकरों के बाद नज़ाक़त आ गई मुझ में,
अब दिल के मशवरों पे मैं भरोसा नहीं करता।

Inn Dino Dil Apna Sakht Be-Aaram Rehta Hai,
Isi Haalat Mein Lekar Subah Se Shaam Rehta Hai.
इन दिनों दिल अपना सख्त बे-आराम रहता है,
इसी हालत में लेकर सुबह से शाम रहता है।

Dil Majboor Ho Raha Hai Tumse Baat Karne Ko,
Bas Zid Yeh Hai Ki Baat Ki Shuruat Tum Karo.
दिल मजबूर हो रहा है तुम से बात करने को
बस जिद ये है कि बात की शुरुआत तुम करो।

Ek Baar Liya Humne Honthon Se Uska Naam,
Dil Honthon Se Larh Pada Ki Woh Sirf Mera Hai.
एक बार लिया हमने होंठों से उसका नाम,
दिल होंठों से लड़ पड़ा कि वो सिर्फ मेरा है।

Kasam Se Koi Nahi Siwa Tere Mere Aye Dil,
Yakeen Maano Yeh Darwaza Faqat Hawa Se Khula.
कसम से कोई नहीं सिवा तेरे मेरे ऐ दिल,
यकीन मानो ये दरवाजा फ़क़त हवा से खुला।

Muskurane Se Bhi Hota Hai Dard-e-Dil Bayaan,
Kisi Ko Rone Ki Aadat Ho Yeh Jaruri Toh Nahi.
मुस्कुराने से भी होता है दर्द-ए-दिल बयां,
किसी को रोने की आदत हो ये ज़रूरी तो नहीं।

Article Categories:
Dil Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.