banner
May 12, 2021
23 Views
0 0

Desh Bhakti Shayari – Mere Mulk Ki Hifazat

Written by
banner

Mere Mulk Ki Hifazat Hi Mera Farz Hai
Aur Mera Mulk Hi Meri Jaan Hai,
Is Par Kurbaan Hai Mera Sab Kuchh,
Nahi Isse Badhkar Mujhko Apani Jaan Hai.

मेरे मुल्क की हिफाज़त ही मेरा फ़र्ज है
और मेरा मुल्क ही मेरी जान है,
इस पर कुर्बान है मेरा सब कुछ,
नही इससे बढ़कर मुझको अपनी जान है।

Bharat Ko Jo Karna Naman Chhod De,
Keh Do Unhe Wo Mera Vatan Chhod De,
Majhab Pyara He Jise Bharat Nahi,
Wo Iss Ki Panah Me Rehna Chhod De.

भारत को जो करना नमन छोड़ दे,
केह दो उन्हें वो मेरा वतन छोड़ दे,
मजहब प्यारा हे जिसे भारत नहीं,
वो इस की पनाह में रहना छोड़ दे।
जय हिन्द जय भारत।।

Naa Poochho Jamane Ko,
Kya Hamari Kahani Hain,
Hamari Pehchaan To Sirf Ye Hai
Ki Hum Sirf Hindustani Hain.

ना पूछो ज़माने को,
क्या हमारी कहानी हैं,
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है,
की हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं।

Article Categories:
Desh Bhakti Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.