banner
May 6, 2021
18 Views
0 0

Dard Shayari – Mita Dete Tere Diye Har Dard Ko

Written by
banner

Har Zakhm Kisi Thokar Ki Meharbani Hai,
Meri Zindagi Ki Bas Yahi Ek Kahani Hai,
Mita Dete Tere Diye Har Dard Ko Seene Se,
Par Ye Dard Hi To Usaki Aakhiri Nishani Hai.

हर ज़ख़्म किसी ठोकर की मेहरबानी है,
मेरी ज़िंदगी की बस यही एक कहानी है,
मिटा देते तेरे दिए हर दर्द को सीने से,
पर ये दर्द ही तो उसकी आखिरी निशानी है।

Wo Naraz Hain Hamse Ki Ham Kuchh Likhte Nahin,
Kahan Se Layen Lafz Jab Hamko Milte Nahin,
Dard Ki Zubaan Hoti To Bata Dete Shayad,
Wo Zakhm Kaise Dikhaye Jo Dikhte Nahin.

वो नाराज़ हैं हमसे कि हम कुछ लिखते नहीं,
कहाँ से लाएं लफ्ज़ जब हमको मिलते नहीं,
दर्द की ज़ुबान होती तो बता देते शायद,
वो ज़ख्म कैसे दिखाए जो दिखते नहीं।

Dil Ke Dard Chhupana Bahut Mushkil Hai,
Toot Kar Phir Muskurana Bahut Mushkil Hai,
Kisi Apne Ke Saath Door Tak Jao Phir Dekho,
Akele Laut Kar Aana Kitna Mushkil Hai.

दिल के दर्द छुपाना बहुत मुश्किल है,
टूट कर फिर मुस्कुराना बहुत मुश्किल है,
किसी अपने के साथ दूर तक जाओ फिर देखो,
अकेले लौट कर आना कितना मुश्किल है।

Article Categories:
Dard Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.