banner
May 6, 2021
18 Views
0 0

Dard Shayari – Hawa Se Lipti Hui Siskiyan

Written by
banner

Hawa Se Lipti Hui Siskiyon Se Lagta Hai,
Meri Kahani Fir Kisi Ashiq Ne Dhohrayi Hai.

हवा से लिपटी हुयी सिसकियों से लगता है,
मेरी कहानी फिर किसी आशिक ने दोहराई है।

Phir Kahin Se Dard Ke Sikke Milenge,
Ye Hatheli Aaj Phir Khujla Rahi Hai.

​फिर कहीं से दर्द के सिक्के मिलेंगे​,
ये हथेली आज फिर खुजला रही है​।

Humne Socha Tha Ke Batayenge Dil Ka Dard Tumko,
Par Tumne Itna Bhi Na Puchha Ke Khamosh Kyun Ho.

हमने सोचा था कि… बताएंगे दिल का दर्द तुमको,
पर तुमने तो इतना भी न पूछा कि खामोश क्यों हो।

Log Kehte Hain Ki Har Dard Ki Ek Had Hoti Hai,
Shayad Unhonein Mera Hadon Se Gujarana Nahi Dekha.

लोग कहते है कि हर दर्द की एक हद होती है,
शायद उन्होंने मेरा हदों से गुजरना नहीं देखा।

Badle Toh Nai Hain Woh Dil-o-Jaan Ke Qareene,
Aankhon Ki Jalan Dil Ki Chubhan Ab Bhi Wahi Hai.

बदले तो नहीं हैं… वो दिल-ओ-जान के क़रीने,
आँखों की जलन दिल की चुभन अब भी वही है।

Article Categories:
Dard Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.