banner
May 6, 2021
28 Views
0 0

Dard Shayari – Dard Sahne Ka Lutf

Written by
banner

मेरी फितरत ही कुछ ऐसी है कि,
दर्द सहने का लुत्फ़ उठाता हूँ मैं।
Meri Fitrat Hi Kuchh Aisi Hai Ke,
Dard Sahne Ka Lutf Uthhata Hoon Main.

दिल के ज़ख्मों को हवा लगती है,
साँस लेना भी यहाँ आसान नहीं है।
Dil Ke Zakhmo Ko Hawa Lagti Hai,
Saans Lena Bhi Yahan Aasaan Nahi Hai.

उससे पूछो अज़ाब रिश्तों का,
जिसका साथी सफ़र में बिछड़ा है।
Uss Se Puchho Azaab Rishton Ka,
Jiska Sathi Safar Mein Bichhada Hai.

एक फ़साना सुन गए एक कह गए,
मैं जो रोया तो मुस्कुराकर रह गए।
Ek Fasaana Sun Gaye Ek Keh Gaye,
Main Jo Roya To Muskura Ke Reh Gaye.

मेरी हर आह को वाह मिली है यहाँ.
कौन कहता है दर्द बिकता नहीं है।
Meri Har Aah Ko Waah Mili Hai Yahan,
Kaun Kahta Hai Dard Bikta Nahi Hai.

Article Categories:
Dard Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.