banner
May 6, 2021
17 Views
0 0

Dard Shayari – Dard Ho Gaya Hai Wakif

Written by
banner

मुझको ढूँढ़ लेता है हर रोज़ नए बहाने से,
दर्द हो गया है वाकिफ मेरे हर ठिकाने से।
Mujhko Dhood Leta Hai Har Roj Naye Bahane Se,
Dard Ho Gaya Hai Wakif Mere Har Thhikane Se.

मैं ज़िन्दगी के उन हालातों से भी गुजरा हूँ,
जहाँ लगता था मरना अब जरूरी हो गया है।
Main Zindagi Ke Unn Halaton Se Bhi Gujra Hoon,
Jahan Lagta Tha Marna Ab Jaroori Ho Gaya Hai.

मेरे सजदों में कोई कमी तो न थी मेरे मौला,
क्या मुझ से भी बढ़ के किसी ने माँगा था उसे।
Mere Sajdon Mein Kami To Na Thi Mere Maula,
Kya Mujhse Bhi Barh Ke Kisi Ne Manga Tha Use.

भीगी मिट्टी की महक एहसास बढ़ा देती है,
दर्द बरसात की बूँदों में बसा करता है।
Bheegi Mitti Ki Mehak Ehsaas Barha Deti Hai,
Dard Barsaat Ki Boondo Mein Basaa Karta Hai.

Article Categories:
Dard Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.