banner
May 6, 2021
22 Views
0 0

Dard Shayari – Dard-E-Dil Hota Hai

Written by
banner

Ishq Karne Walon Ka Yahi Hashr Hota Hai,
Dard-E-Dil Hota Hai, Rah Rah Ke Seene Mein,
Band Honth Kuchh Na Kuchh Gunagunate Hi Rahte Hain,
Khaamosh Nigahon Ka Bhi Gahara Asar Hota Hai.

इश्क करने वालों का यही हश्र होता है,
दर्द-ए-दिल होता है, रह रह के सीने में,
बंद होंठ कुछ ना कुछ गुनगुनाते ही रहते हैं,
खामोश निगाहों का भी गहरा असर होता है।

Gam Ke Dariya Se Milkar Bana Hai Yah Sagar,
Tum Kyon Ismen Samane Ki Koshish Karte Ho,
Kuchh Nahin Hai Aur Is Jeevan Mein Dard Ke Siwa,
Tum Kyon Zindagi Mein Aane Ki Koshish Karte Ho.

ग़म के दरिया से मिलकर बना है यह सागर,
तुम क्यों इसमें समाने की कोशिश करते हो,
कुछ नहीं है और इस जीवन में दर्द के सिवा,
तुम क्यों ज़िंदगी में आने की कोशिश करते हो।

Zakhm Jab Mere Seene Ke Bhar Jaenge,
Aansoo Bhi Moti Ban Ke Bikhar Jaenge,
Ye Mat Poochhna Kisne Dard Diya,
Warna Kuchh Apnon Ke Sar Jhuk Jaenge.

ज़ख्म जब मेरे सीने के भर जाएंगे,
आंसू भी मोती बन के बिखर जाएंगे,
ये मत पूछना किसने दर्द दिया,
वरना कुछ अपनों के सर झुक जाएंगे।

Article Categories:
Dard Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.