banner
May 6, 2021
27 Views
0 0

Dard Shayari – Benaam Sa Ye Dard

Written by
banner

बेनाम सा यह दर्द ठहर क्यों नहीं जाता,
जो बीत गया है वो गुजर क्यों नहीं जाता,
वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नहीं जाता।

Benaam Sa Ye Dard Thhahar Kyun Nahi Jata,
Jo Beet Gaya Hai Wo Gujar Kyun Nahi Jata,
Wo Ek Hi Chehra To Nahi Saare Jahaan Mein,
Jo Door Hai Wo Dil Se Utar Kyun Nahi Jata.

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,
गम में आँसू न बहते तो और क्या करते,
उसने माँगी थी हमसे रौशनी की दुआ,
हम अपना दिल न जलाते तो और क्या करते।

Dard Se Haath Na Milaate To Aur Kya Karte,
Gham Mein Aansoo Na Bahate To Aur Kya Karte,
Usne Mangi Thi Humse Roshni Ki Duaa,
Hum Apna Dil Na Jalate To Aur Kya Karte.

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,
हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,
जुल्मों-सितम को अब तो सताने लगे हैं हम।

Hanste Huye Zakhmon Ko Bhulane Lage Hain Hum,
Har Dard Ke Nishaan Ko Mitaane Lage Hain Hum,
Ab Aur Koi Zulm Satayega Kya Bhala,
Zulmon-Sitam Ko Ab To Satane Lage Hain Hum.

Article Categories:
Dard Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.