banner
May 5, 2021
15 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – To Aur Kya Karte

Written by
banner

Dard Se Haath Na Milate Toh Aur Kya Karte,
Gham Mein Aansu Na Bahate Toh Aur Kya Karte,
Usne Mangi Thi Humse Roshni Ki Duaa,
Hum Apna Dil Na Jalate To Aur Kya Karte.
दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,
गम में आँसू न बहते तो और क्या करते,
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,
हम अपना दिल न जलाते तो और क्या करते।

Woh Roye Toh Magar Mujhse Munh Modkar Roye,
Koi Majboori Hi Hogi Jo Dil Tod Kar Roye.
Mere Saamne Kar Diye Meri Tasvir Ke Tukde,
Mere Baad Woh Unhein Jod Jod Kar Roye.
वो रोए तो मगर मुझसे मुंह मोड़कर रोए,
कोई मजबूरी होगी तो दिल तोड़कर रोए,
मेरे सामने कर दिए मेरी तस्वीर के टुकड़े,
मेरे बाद वो उन्हें जोड़ जोड़ कर रोए।

Mujhe Dard-e-Ishq Ka Majaa Maloom Hai,
Dard-e-Dil Ki Intehaan Maloom Hai,
Zindagi Bhar Muskurane Dua Mat Dena,
Mujhe Pal Bhar Muskurane Ki Saza Maloom Hai.
मुझे दर्द-ए-इश्क़ का मज़ा मालूम है,
दर्द-ए-दिल की इन्तेहाँ मालूम है,
ज़िंदगी भर मुस्कुराने की दुआ मत देना,
मुझे पल भर मुस्कुराने की सज़ा मालूम है।

Har Ek Haseen Chehre Mein Gumaan Uska Tha,
Basa Na Koi Dil Mein Ye Makaan Uska Tha,
Tamaam Dard Mit Gaye Mere Dil Se Lekin,
Jo Na Mit Saka Woh Ek Naam Uska Tha.
हर एक हसीन चेहरे में गुमान उसका था,
बसा न कोई दिल में ये मकान उसका था,
तमाम दर्द मिट गए मेरे दिल से लेकिन,
जो न मिट सका वो एक नाम उसका था।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.