banner
May 5, 2021
20 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Raat Ka Dard

Written by
banner

Tu Hai Sooraj Tujhe Maloom Kahan Raat Ka Dard,
Tu Kisi Roz Mere Ghar Mein Utar Shaam Ke Baad.
तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दर्द,
तू किसी रोज मेरे घर में उतर शाम के बाद।

Shayari Mein Kahan SimatTa Hai Dard-e-Dil Dosto,
Bahla Rahe Hain Khud Ko Jara Kagazon Ke Saath.
शायरी में कहाँ सिमटता है दर्द-ए-दिल दोस्तो,
बहला रहे हैं खुद को जरा कागजों के साथ।

Aankhein Khuli Hain Jab Se Hoon Dard Mein Ai Dost,
Mujhko Jaga Ke Neend Se Tu Ne Achchha Nahi Kiya.
आँखें खुली हैं जबसे हूँ दर्द में ऐ दोस्त,
मुझको जगा के नींद से तूने अच्छा नहीं किया।

Bahut Juda Hai Auron Se Mere Dard Ki Kahani,
Zakhm Ka Nishaan Nahi Aur Dard Ki Intehaan Nahi.
बहुत जुदा है औरों से मेरे दर्द की कहानी,
जख्म का निशाँ नहीं और दर्द की इन्तेहाँ नहीं।

Meri Fitrat Mein Nahi Apna Dard Bayaan Karna,
Agar Tere Wajood Ka Hissa Hun Toh Mehsoos Kar Mujhe.
मेरी फितरत में नहीं अपना दर्द बयां करना,
अगर तेरे वजूद का हिस्सा हूँ तो महसूस कर मुझे।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.