banner
May 5, 2021
24 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Maine Dard Ko Chaha

Written by
banner

Nafarat Karna To Humne Kabhi Seekha Hi Nahi,
Maine To Dard Ko Bhi Chaha Hai Apna Samajh Kar.
नफ़रत करना तो हमने कभी सीखा ही नहीं,
मैंने तो दर्द को भी चाहा है अपना समझ कर।

Meri Har Shayari Dil Ke Dard Ko Karegi Bayaan,
Tumhari Aankh Na Bhar Aaye Kahin Parhte Parhte.
मेरी हर शायरी दिल के दर्द को करेगी बयाँ,
तुम्हारी आँख ना भर आयें कहीं पढ़ते पढ़ते।

Taras Aata Hai Mujhe Apni Masoom Si Palkon Par,
Jab Bheeg Kar Kahti Hain Ke Ab Roya Nahi Jata.
तरस आता है मुझे अपनी मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती है कि अब रोया नहीं जाता।

Mere Sajdon Mein Kami Toh Na Thi, Mere Maula,
Kya Mujh Se Bhi Barh Ke Kisi Ne Manga Tha Usey.
मेरे सजदों में कोई कमी तो न थी मेरे मौला,
क्या मुझ से भी बढ़ के किसी ने माँगा था उसे।

Bayaan Karna Mohabbat Ko Aasaan Na Hua Tha,
Ye Toh Dard Hai Kaise Kah Du Ki Tumne Diya Hai.
बयाँ करना मोहब्बत को आसान ना हुआ था,
ये तो दर्द है कैसे कह दूँ कि ये तुमने दिया है।

Main Zindagi Ke Unn Halaton Se Bhi Gujra Hoon,
Jahan Lagta Tha Marna Ab Jaroori Ho Gaya Hai.
मैं ज़िन्दगी के उन हालातों से भी गुजरा हूँ,
जहाँ लगता था मरना अब जरूरी हो गया है।

Khud Se Roothhun Toh Kayi Roj Na Khud Se Bolun,
Phir Kisi Dard Ki Deewaar Se Lag Kar Ro Lun.
खुद से रूठूँ तो कई रोज न खुद से बोलूं,
फिर किसी दर्द की दीवार से लग कर रो लूँ।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.