banner
May 5, 2021
15 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Kuchh Dard Hain

Written by
banner

Khamoshyian Kar Deti Bayaan Toh Alag Baat Hai,
Kuchh Dard Hain Jo Lafzo Mein Utaare Nahi Jate.
खामोशियाँ कर देतीं बयान तो अलग बात है,
कुछ दर्द हैं जो लफ़्ज़ों में उतारे नहीं जाते।

Aankhon Mein Umad Aata Ha Baadal Ban Kar,
Dard Ehsaas Ko Banjar Nahi Rahne Deta.
आँखों में उमड़ आता है बादल बन कर,
दर्द एहसास को बंजर नहीं रहने देता।

Mujhko Dhoondh Leta Hai Har Roj Naye Bahane Se,
Dard Ho Gaya Hai Waqif Mere Har Thhikane Se.
मुझको ढूँढ़ लेता है हर रोज़ नए बहाने से,
दर्द हो गया है वाकिफ मेरे हर ठिकाने से।

Hawa Se Lipti Hui Siskiyon Se Lagta Hai,
Meri Kahani Kisi Aur Ne Bhi Dhohrayi Hai.
हवा से लिपटी हुयी सिसकियों से लगता है,
मेरी कहानी किसी और ने भी दोहराई है।

Ab Iss Se Jyada Aur Kya Narmi Bartoon,
Dil Ke Zakhmo Ko Chhua Hai Tere Gaalon Ki Tarah.
अब इस से ज्यादा और क्या नरमी बरतूं,
दिल के ज़ख्मों को छुया है तेरे गालों की तरह।

Aayina Aaj Fir Rishwat Lete Pakda Gaya,
Dil Mein Tha Dard Chehra Hanste Huye Pakda Gaya.
आईना आज फिर रिश्वत लेता पकड़ा गया,
दिल में था दर्द चेहरा हँसता हुआ पकड़ा गया।

Badle Toh Nai Hain Woh Dil-o-Jaan Ke Qareene,
Aankhon Ki Jalan Dil Ki Chubhan Ab Bhi Wahi Hai.
बदले तो नहीं हैं वो दिल-ओ-जान के क़रीने,
आँखों की जलन दिल की चुभन अब भी वही है।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.