banner
May 5, 2021
18 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Dard Me Muskurane Aadat

Written by
banner

Woh Jaan Gayi Thi Hame Dard Mein Muskurane Aadat Hai,
Deti Thi Naya Zakhm Woh Roj Meri Khushi Ke Liye.
वो जान गयी थी हमें दर्द में मुस्कराने की आदत है,
देती थी नया जख्म वो रोज मेरी ख़ुशी के लिए।

Mohabbat Khubsurat Hogi Kisi Aur Duniya Mein,
Idhar Toh Hum Par Jo Gujri Hai Hum Hi Jante Hain.
मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनिया में,
इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं।

Humne Socha Tha Ke Batayenge Dil Ka Dard Tumko,
Par Tumne Itna Bhi Na Puchha Ke Khamosh Kyun Ho.
हमने सोचा था कि बताएंगे दिल का दर्द तुमको,
पर तुमने तो इतना भी न पूछा कि खामोश क्यों हो।

ilaaj-e-Dard-e-Dil Tumse Maseeha Ho Nahi Sakta,
Tum Achha Kar Nahi Sakte Main Achha Ho Nahi Sakta.
इलाजे-दर्दे-दिल तुमसे मसीहा हो नहीं सकता,
तुम अच्छा कर नहीं सकते मैं अच्छा हो नहीं सकता।

Awaaz Mein Thehraao Tha Ankhon Mein Nami Si Thi,
Aur Kah Raha Tha Maine Sab Kuchh Bhula Diya.
आवाज़ में ठहराव था आँखों में नमी सी थी,
और कह रहा था मैंने सब कुछ भुला दिया।

Main Bhi bahut Ajeeb Hoon Itna Ajeeb Hoon Ke Bas,
Khud Ko Tabaah Kar Liya Aur Malal Bhi Nahi.
मैं भी बहूत अजीब हूँ इतना अजीब हूँ कि बस,
खुद को तबाह कर लिया और मलाल भी नहीं।

Zulm Itna Na Kar Ke Log Kahein Tujhe Dushman Mera,
Humne Zamane Ko Tujhe Apni Jaan Bata Rakha Hai.
ज़ुल्म इतना ना कर कि लोग कहें तुझे दुश्मन मेरा,
हमने ज़माने को तुझे अपनी जान बता रखा है।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.