banner
May 5, 2021
56 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Dard Marta Nahi Hai

Written by
banner

Roj Pilata Hu Ek Zeher Ka Pyala Use,
Ek Dard Jo Dil Mein Hai Marta Hi Nahi Hai.
रोज़ पिलाता हूँ एक ज़हर का प्याला उसे,
एक दर्द जो दिल में है मरता ही नहीं है।

Dard Mohabbat Ka Ai Dost Bahut Khoob Hoga,
Na Chubhega.. Na Dikhega.. Bas Mahsoos Hoga.
दर्द मोहब्बत का ऐ दोस्त बहुत खूब होगा,
न चुभेगा.. न दिखेगा.. बस महसूस होगा।

Dard Mein Bhi Yeh Lab Muskura Jaate Hain,
Beete Lamhe Humein Jab Bhi Yaad Aate Hain.
दर्द में भी ये लब मुस्कुरा जाते हैं,
बीते लम्हे हमें जब भी याद आते है।

Dard Ko Muskura Kar Sahna Kya Seekh Liya,
Sab Ne Soch Liya Mujhe Takleef Nahi Hoti.
दर्द को मुस्कराकर सहना क्या सीख लिया,
सब ने सोच लिया मुझे तकलीफ़ नहीं होती।

Mere Toh Dard Bhi Auron Ke Kaam Aate Hain,
Mein Ro Padoo Toh Kayi Log Muskurate Hain.
मेरे तो दर्द भी औरों के काम आते हैं,
मैं रो पडूँ तो कई लोग मुस्कराते है।

Bheegi Mitti Ki Mehak Ehsaas Barha Deti Hai,
Dard Barsaat Ki Boondo Mein Basaa Karta Hai.
भीगी मिट्टी की महक एहसास बढ़ा देती है,
दर्द बरसात की बूँदों में बसा करता है।

Humdardiyan Bhi Mujhe Katne Lagti Hain Ab,
Yoon Mujhse Mera Mijaz Na Puchha Kare Koi.
हमदर्दियाँ भी मुझे काटने लगती हैं अब,
यूँ मुझसे मेरा मिजाज़ ना पूछा करे कोई।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.