banner
May 5, 2021
23 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Dard Ki Wajah Woh Hain

Written by
banner

Mere Iss Dard Ki Wajah Bhi Woh Hain,
Aur Mere Dard Ki Davaa Bhi Toh Woh Hain,
Woh Namak Zakhamo Pe Lagate Hain To Kya,
Mohabbat Karne Ki Wajah Bhi Toh Woh Hain.
मेरे इस दर्द की वजह भी वो हैं,
और मेरे दर्द की दवा भी तो वो हैं,
वो नमक ज़ख्मों पे लगाते हैं तो क्या,
मोहब्बत करने की वजह भी तो वो हैं।

Woh Dard De Gaye Sitam Bhi De Gaye,
Zakhm Ke Saath Woh Marham Bhi De Gaye,
Do Lafzon Se Kar Gaye Apna Man Halka,
Humein Kabhi Na Rone Ki Kasam De Gaye.
वो दर्द दे गए सितम भी दे गए,
ज़ख़्म के साथ वो मरहम भी दे गए,
दो लफ़्ज़ों से कर गए अपना मन हल्का,
हमें कभी ना रोने की कसम दे गए।

Mere Khyalon Mein Wahi Sapno Mein Wahi,
Lekin Unki Yaadon Mein Hum The Hi Nahi,
Hum Jaagte Rahe Duniya Soti Rahi,
Ek Baarish Hi Thi Jo Humare Sath Roti Rahi.
मेरे ख्यालों में वही सपनो में वही,
लेकिन उनकी यादों में हम थे ही नहीं,
हम जागते रहे दुनिया सोती रही,
एक बारिश ही थी जो हमारे साथ रोती रही।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.