banner
May 5, 2021
23 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Dard Humne Sambhala

Written by
banner

Dard Humne Sambhala Hai Humne Aansu Bahaye Hain,
Beshak Wajah Tum The Par Dil Toh Humara Tha.
दर्द हमने संभाला है हमने आँसू बहाए हैं,
बेशक वजह तुम थे पर दिल तो हमारा था।

Zeher Deta Hai Koi Davaa Deta Hai,
Jo bhi Milta Hai Mera Dard Barha Deta Hai.
ज़हर देता है कोई कोई दवा देता है,
जो भी मिलता है मेरा दर्द बढ़ा देता है।

Joron Se Hans Pade Hum Badi Muddaton Ke Baad,
Fir Kaha Kisi Ne Ke Mera Aitbar Kijiye.
जोरों से हँस पड़े हम बड़ी मुद्दतों के बाद,
फिर कहा किसी ने कि मेरा ऐतबार कीजिये।

Yeh Bhi Ek Zamana Dekh Liya Hai Humne,
Dard Jo Sunaya Apna Toh Taliyan Baj Uthhi.
यह भी एक ज़माना देख लिया है हम ने,​
​दर्द जो सुनाया अपना तो तालियां बज उठीं​।

Woh Meri Ghazal Parh Ke Pahlu Badal Ke Bole,
Koi Cheene Qalam Inse Yeh Jaan Le Lete Hain.
वो मेरी ग़ज़ल पढ़ कर पहलू बदल के बोले,
कोई छीने क़लम इनसे ये तो जान ले चले हैं।

Tum Na Kar Sakoge Mere Dard Ka ilaaj,
Zakhm Ko Nasoor Huye Muddatein Gujar Gayi.
तुम न कर सकोगे मेरे दिल के दर्द का इलाज़,
ज़ख्म को नासूर हुए मुद्दतें गुजर गयीं।

Lafz-e-Tasalli Toh Bas Ek Takalluf Hai,
Jiska Dard Uska Dard Baaki Sab Afsaane.
लफ्ज़-ए-तसल्ली तो बस एक तकल्लुफ है,
जिसका दर्द उसका दर्द बाकी सब अफ़साने।

Kaisi Gujar Rahi Hai Sabhi Poochhte Toh Hain,
Kaise Gujaarta Hoon Koi Poochhta Nahi.
कैसी गुजर रही है सभी पूछते तो हैं,
कैसे गुजारता हूँ कोई पूछता नहीं।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.