banner
May 5, 2021
22 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Dard-e-Dil Ka Mazaa

Written by
banner

Mujhko Toh Dard-e-Dil Ka Mazaa Yaad Aa Gaya,
Tum Kyun Huye Udaas Tumhein Kya Yaad Aa Gaya?
Kahne Ko Zindgi Thi Bahut Mukhtsar Magar,
Kuchh Yoon Huyi Basar Ki Khuda Yaad Aa Gaya.
मुझको तो दर्द-ए-दिल का मज़ा याद आ गया,
तुम क्यों हुए उदास तुम्हें क्या याद आ गया?
कहने को जिंदगी थी बहुत मुख्तसर मगर,
कुछ यूँ बसर हुई कि खुदा याद आ गया।

Kaise Bayaan Karein Aalam Dil Ki Bebasi Ka,
Woh Kya Samjhe Dard Aankhon Ki Iss Nami Ka,
Unke Chhahne Wale Itne Ho Gaye Hai Ab Ke,
Unhein Jab Ehsaas Hi Nahi Humari Kami Ka.
कैसे बयान करें आलम दिल की बेबसी का,
वो क्या समझे दर्द आँखों की इस नमी का,
उनके चाहने वाले इतने हो गए हैं अब कि,
उन्हे जब एहसास ही नहीं हमारी कमी का।

Dard Ke Daaman Mein Chahat Ke Kamal Khilte Hain,
Ashq Ki Lakeer Par Yaadon Ke Kadam Chalte Hain,
Rengte Khyalon Mein Najar Aati Hain Manzilein,
Jab Bhi Nigaahon Mein Khwabon Ki Diye Jalte Hain.
दर्द के दामन में चाहत के कमल खिलते हैं,
अश्क की लकीर पर यादों के कदम चलते हैं,
रेंगते ख्यालों में नजर आती हैं मंजिलें,
जब भी निगाहों में ख्वाबों के दिए जलते हैं।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.