banner
May 5, 2021
21 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Dard Be Asar Mera

Written by
banner

Manzilon Se Begana Aaj Bhi Safar Mera,
Hai Raat Besahar Meri Dard BeAsar Mera.
मंजिलों से बेगाना आज भी सफ़र मेरा,
है रात बेसहर मेरी दर्द बेअसर मेरा।

Ab Toh Haathon Se Lakeerein Bhi Miti Jati Hain,
Usey Khokar Mere Paas Raha Kuchh Bhi Nahi.
अब तो हाथों से लकीरें भी मिटी जाती हैं,
उसे खोकर मेरे पास रहा कुछ भी नहीं।

Dard Humara Phaila Pada Tha Kagaz Par,
Jo Samjha Ro Diya Na Samjha Muskura Diya.
दर्द हमारा फैला पड़ा था कागज पर,
जो समझा रो दिया जो न समझा मुस्कुरा दिया।

Andaza Laga Lete Hain Sab Dard Ka Mere,
Hanste Huye Chehre Ka Nuksaan Yahi Hai.
अंदाजा लगा लेते हैं सब दर्द का मेरे,
हँसते हुए चेहरे का नुकसान यही है।

Na Milne Ki Kasam Kha Ke Bhi Maine,
Har Raah Mein Bas Tujh Ko Hi Dhoondha Hai.
न मिलने की कसम खा के भी मैंने,
हर राह में बस तुझको ही ढूँढा है।

Na Tu Rahega Na Tere Sitam Rahenge Baaki,
Din Toh Aana Hai Kisi Roj Hisaabon Wala.
न तू रहेगा न तेरे सितम रहेंगे बाकी​,
दिन तो आना है किसी रोज़ हिसाबों वाला​।

Apni Hi Mohabbat Se Mukarna Pada Mujhe,
Jab Dekha Use Rota Hua Kisi Aur Ke Liye.
अपनी ही मोहब्बत से मुकरना पड़ा मुझे,
जब देखा उसे रोता हुआ किसी और के लिए।

Kamaal Ka Jigar Rakhte Hain Kuchh Log,
Dard Likhte Hain Aur Aah Tak Nahi Karte.
कमाल का जिगर रखते है कुछ लोग,
दर्द लिखते हैं और आह तक नहीं करते।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.