banner
May 5, 2021
18 Views
0 0

Dard Bhari Shayari – Bahut Dard Seh Liye

Written by
banner

Ab Toh Daaman-e-Dil Chhod Do Bekaar Ummeedo,
Bahut Dard Seh Liye Maine Bahut Din Jee Liya Maine.
अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उमीदों,
बहुत दर्द सह लिए मैंने बहुत दिन जी लिया मैंने।

Tujhse Pahle Bhi Kayi Zakhm The Seene Mein Magar,
Ab Ke Woh Dard Hai Ke Ragein TootTi Hain.
तुझसे पहले भी कई जख्म थे सीने में मगर,
अब के वह दर्द है दिल में कि रगें टूटती हैं।

Mujh Par Sitam Dhha Gaye Meri Hi Ghazal Ke Sher,
Parh-Parh Ke Kho Rahe Hain Woh Ghair Ke Khayal Mein.
मुझ पर सितम ढहा गए मेरी ही ग़ज़ल के शेर,
पढ़-पढ़ के खो रहे हैं वो गैर के ख्याल में।

Aaj Uss Ne Ek Dard Diya Toh Mujhe Yaad Aaya,
Humne Hi Duaaon Mein Uske Saare Dard Mange They.
आज उस ने एक दर्द दिया तो मुझे याद आया,
हमने ही दुआओं में उसके सारे दर्द माँगे थे।

Parda Girte Hi Khatm Ho Jaate Hain Tamaashe Saare,
Khoob Rote Hain Fir Auron Ko Hansaane Wale.
पर्दा गिरते ही खत्म हो जाते हैं तमाशे सारे,
खूब रोते हैं फिर औरों को हँसाने वाले।

Kiya Hai Bardasht Tera Har Dard Isee Aas Ke Saath,
Ke Khuda Noor Bhi Barsata Hai Aazmaishon Ke Baad.
किया है बर्दाश्त तेरा हर दर्द इसी आस के साथ,
कि खुदा नूर भी बरसाता है आज़माइशों के बाद।

Article Categories:
Dard Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.