banner
May 4, 2021
23 Views
0 0

Chaand Shayari – Chaudhvi Ki Raat

Written by
banner

Kal Chaudhvi Ki Raat Thi Raat Bhar Raha Charcha Tera,
Kuchh Ne Kaha Ye Chaand Hai, Kuchh Ne Kaha Chehra Tera.

कल चौदहवी की रात थी रात भर रहा चर्चा तेरा,
कुछ ने कहा ये चाँद है, कुछ ने कहा चेहरा तेरा।

Tujhko Dekha To Phir Usko Na Dekha Maine,
Chaand Kahta Rah Gaya Main Chaand Hoon Main Chaand Hoon.

तुझको देखा तो फिर उसको ना देखा मैंने,
चाँद कहता रह गया मैं चाँद हूँ मैं चाँद हूँ।

Aaj Tootega Guroor Chaand Ka Dekhna Dosto,
Aaj Maine Unhen Chhat Par Bula Rakha Hai.

आज टूटेगा गुरूर चाँद का देखना दोस्तो,
आज मैंने उन्हें छत पर बुला रखा है।

Mera Aur Chaand Ka Muqaddar Ek Jaisa Hai,
Wo Taaro Mein Akela Main Hajaaro Mein Akela.

मेरा और चाँद का मुक़द्दर एक जैसा है,
वो तारो में अकेला मैं हजारो में अकेला।

Ishq Teri Inthaan Ishq Meri Inthaan,
Tu Bhi Abhi Na-Tamam Main Bhi Abhi Na-Tamam.

इश्क तेरी इन्तेहाँ इश्क मेरी इन्तेहाँ,
तू भी अभी न-तमाम मैं भी अभी न-तमाम।

Aasmaan Aur Zameen Ka Hai Fasla Har-Chand,
Ai Sanam Door Hi Se Chaand Sa Mukhada Dikhla.

आसमान और ज़मीं का है फासला हर-चंद,
ऐ सनम दूर ही से चाँद सा मुखड़ा दिखला।

Article Categories:
Chaand Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.