banner
Apr 30, 2021
47 Views
0 0

Bewafa Shayari- Kisi Ka Achanak Bewafa Hona

Written by
banner

किसी का रूठ जाना और अचानक बेवफा होना,
मोहब्बत में यही लम्हा क़यामत की निशानी है।
Kisi Ka Rooth Jana Aur Achanak Bewafa Hona,
Muhabbat Mein Yahi Lamha Qayamat Ki Nishani Hai.

उसकी बेवफाई पे भी फ़िदा होती है जान अपनी,
अगर उस में वफ़ा होती तो क्या होता खुदा जाने।
Uski Bewafai Pe Bhi Fida Hoti Hai Jaan Apni,
Agar Usme Wafa Hoti To Kya Hota Khuda Jaane.

मेरी आँखों से बहने वाला ये आवारा सा आसूँ
पूछ रहा है पलकों से तेरी बेवफाई की वजह।
Meri Aankho Se Behne Wala Ye Awara Sa Aansoo,
Poochh Raha Hai Palkon Se Teri Bewafai Ki Wajah.

बेवफाई का मौसम भी अब यहाँ आने लगा है,
वो फिर से किसी को देख कर मुस्कुराने लगा है।
Bewafai Ka Mausam Bhi Ab Yahan Aane Laga Hai,
Wo Fir Se Kisi Ko Dekhkar Muskurane Laga Hai.

इलाही क्यूँ नहीं उठती क़यामत माजरा क्या है,
हमारे सामने पहलू में वो दुश्मन के बैठे हैं।
ilaahi Kyun Nahi Uthhti Qayamat Maazra Kya Hai,
Humare Samne Pahloo Mein Wo Dushman Ke Baithe Hain.

Article Categories:
Bewafa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.