banner
Apr 30, 2021
17 Views
0 0

Bewafa Shayari – Bewafai Payi Hai

Written by
banner

Mat Rakh Hamse Wafa Ki Ummeed Ai Sanam,
Hamne Har Dam Bewafai Payi Hai,
Mat Dhoondh Hamare Jism Pe Jakhm Ke Nishan,
Hamne Har Chot Dil Pe Khaayi Hai.

मत रख हमसे वफा की उम्मीद ऐ सनम,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है।

Bewafai Se Jyada Kya Cheez Hogi,
Gam-E-Haalat Judai Se Badhkar Kya Hogi,
Jise Deni Ho Saza Umr Bhar Ke Liye,
Saza Tanhayi Se Badhkar Aur Kya Hogi.

बेवफ़ाई से ज्यादा क्या चीज होगी,
ग़म-ए-हालत जुदाई से बढ़कर क्या होगी,
जिसे देनी हो सज़ा उम्र भर के लिए,
सज़ा तन्हाई से बढ़कर और क्या होगी।

Diya Hai Jo Iljaam Tune Bewafa Sanam,
Meri Saaf Muhabbat Par,
Lagaye Baithe Hain Ise Apne Seene Se Ham,
Pyar Ki Nishani Samjhkar.

दिया है जो इलज़ाम तूने बेवफ़ा सनम,
मेरी साफ़ मुहब्बत पर,
लगाये बैठे हैं इसे अपने सीने से हम,
प्यार की निशानी समझकर।

Hamdam Ta Umr Saath Chalte Hain,
Rahen To Bewafa Badlate Hain,
Aapka Chehra Hai Jab Se Mere Dil Mein,
Jaane Kyon Log Mere Dil Se Jalte Hain.

हमदम तो ता उम्र साथ चलते हैं,
राहें तो बेवफ़ा बदलते हैं,
आपका चेहरा है जब से मेरे दिल में,
जाने क्यों लोग मेरे दिल से जलते हैं।

Article Categories:
Bewafa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.