banner
Apr 30, 2021
18 Views
0 0

Bewafa Shayari – Ban Ke Bewafa Mili

Written by
banner

Woh Mili Bhi To Kya Mili Ban Ke Bewafa Mili,
Itane To Mere Gunah Na The Jitni Mujhe Saja Milei.

वो मिली भी तो क्या मिली बन के बेवफा मिली,
इतने तो मेरे गुनाह ना थे जितनी मुझे सजा मिली।

Bahut Ajeeb Hain Ye Mohabbat Karne Wale,
Bewafai Karo To Rote Hain Aur Wafa Karo To Rulate Hain.

बहुत अजीब हैं ये मोहब्बत करने वाले,
बेवफाई करो तो रोते हैं और वफा करो तो रुलाते हैं।

Sari Bhoolen Teri Maaf Ki, Sab Khataon Ko Teri Bhula Diya,
Gam Hai Ki Mere Pyar Ka Tune Bewafa Banke Sila Diya.

सारी भूलें तेरी माफ़ की, सब खताओं को तेरी भुला दिया,
गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफा बनके सिला दिया।

Aise Kaise Bura Kah Doon Teri Bewafai Ko,
Yahi To Hai Jisne Mujhe Mashoor Kiya Hai.

ऐसे कैसे बुरा कह दूँ तेरी बेवफाई को,
यही तो है जिसने मुझे मशहूर किया है।

Yoon Naaraz Mat Hua Karo Hamse Itna Mere Sanam,
Badkismat Zaroor Hain Ham Magar Bewafa Nahin.

यूँ नाराज़ मत हुआ करो हमसे इतना मेरे सनम,
बदकिस्मत ज़रूर हैं हम मगर बेवफा नहीं।

Ishq Me Doobi Hui Koyi Gazal Use Pasand Nahin,
Bewafai Ke Har Sher Pe wo Vaah-Vaah Karte Hain.

इश्क में डूबी हुई कोई ग़ज़ल उसे पसंद नहीं,
बेवफाई के हर शेर पे वो वाह-वाह करते हैं।

Jinki Shayariyo Mein Dard Hota Hai,
Wo Shayar Nahi Kisi Bewafa Ka Deewana Hota Hai.

जिनकी शायरियों में दर्द होता है
वो शायर नही किसी बेवफा का दीवाना होता है।

Article Categories:
Bewafa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.