banner
Apr 30, 2021
50 Views
0 0

Best Shayar – Faraaz Shayari Collection

Written by
banner

Abhi Kuchh Aur Karishme Gazal Ke Dekhte Hain,
“Faraaz” Ab Zara Lahja Badal Ke Dekhte Hain.

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं,
“फ़राज़” अब ज़रा लहजा बदल के देखते हैं।

Aisi Tarikiyaan Aankhon Mein Basi Hain Ki “Faraaz”
Raat To Raat Hai Ham Din Ko Jalate Hain Charaag.

ऐसी तारीकियाँ आँखों में बसी हैं कि ‘फ़राज़’
रात तो रात है हम दिन को जलाते हैं चराग़।

In Baarishon Se Dosti Acchi Nahi “Faraz”,
Kaccha Tera Maqaan Hai Kuch To Khayal Kar.

इन बारिशों से दोस्ती अच्छी नहीं “फराज”,
कच्चा तेरा मकाँ है कुछ तो ख्याल कर।

Ab Maayoos Kyun Ho Uss Ki Bewafai Pe “Faraz”,
Tum Khud Hi To Kehte The Ki Wo Sabse Juda Hai.

अब मायूस क्यूँ हो उस की बेवफाई पे “फ़राज़”,
तुम खुद ही तो कहते थे कि वो सबसे जुदा है।

Tumhari Ek Nigah Se Qatal Hote Hain Log “Faraz”,
Ek Nazar Hum Ko Bhi Dekh Lo Ke Tum Bin Zindagi Achhi Nahi Lagti.

तुम्हारी एक निगाह से क़त्ल होते हैं लोग “फ़राज़”,
एक नजर हमको भी देख लो कि तुम बिन जिंदगी अच्छी नहीं लगती।

Aankh Se Door Na Ho Dil Se Utar Jaayega,
Waqt Ka Kya Hai Guzarta Hai Guzar Jaayega.

आँख से दूर न हो दिल से उतर जायेगा,
वक़्त का क्या है गुजरता है गुजर जायेगा।

Cheekhein Bhi Yehan Koyi Gaur Se Sunta Nahi Koi “Faraz”,
Are, Kis Shahar Mein Tum Sher Sunaane Chale Aaye.

चीखें भी यहाँ गौर से सुनता नहीं कोई “फ़राज़”,
अरे, किस शहर में तुम शेर सुनाने चले आये।

Kuch Muhabbat Ka Nasha Tha Pehle Humko “Faraz”,
Dil Jo Toota To Nashe Se Muhabbat Ho Gayi.

कुछ मोहब्बत का नशा था पहले हमको “फ़राज़”,
दिल जो टूटा तो नशे से मोहब्बत हो गयी।

Silsile Tod Gaya Woh Sabhi Jaate-Jaate,
Varna Itne Toh Marasim The Ki Aate-Jaate.

सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते-जाते,
वरना इतने तो मरासिम थे कि आते जाते।

Shikwa-e-Zulmat-e-Shab Se Toh Kahin Behtar Tha,
Apne Hisse Ki Koi Shamma Jalaate Jaate.

शिकवा-ए-जुल्मते-शब से तो कहीं बेहतर था,
अपने हिस्से की कोई शम्मा जलाते जाते।

Kitna Aasaan Tha Tere Hijr Mein Mar Janaa,
Phir Bhi Ek Umr Lagi Jaan Se Jaate Jaate.

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मर जाना,
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते-जाते।

Jashn-e-Maqtal Hi Na Barpa Hua Varna Hum Bhi,
Pa Bajola Hi Sahi Naachte Gaate Jaate.

जश्न-ए-मक़्तल ही न बरपा हुआ वरना हम भी,
पा बजोलां ही सही नाचते-गाते जाते।

Uski Woh Jaane Use Paas-e-Wafa Tha Ki Na Tha,
Tum “Faraz” Apni Taraf Se Toh Wafa Nibhate Jaate.

उसकी वो जाने उसे पास-ए-वफ़ा था कि न था,
तुम “फ़राज़” अपनी तरफ से तो निभाते जाते।

Article Categories:
Best Shayar
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.