banner
Apr 30, 2021
45 Views
0 0

Barish Shayari – Pahli Barish

Written by
banner

Khud Ko Itna Bhi Na Bachaya Kr,
Barisen Hua Kare To Bheeg Jaya Kar.

ख़ुद को इतना भी न बचाया कर,
बारिशें हुआ करे तो भीग जाया कर।

Jab Bhi Hogi Pahli Barish, Tumko Samne Payenge,
Wo Boondo Se Bhara Chehra Tumhara Hum Dekh To Payenge.

जब भी होगी पहली बारिश, तुमको सामने पायेंगे,
वो बूंदों से भरा चेहरा तुम्हारा हम देख तो पायेंगे।

Kal Raat Maine Sare Gam Aasman Ko Suna Diye,
Aaj Main Chup Hun Aur Aasman Baras Raha Hai.

कल रात मैंने सारे ग़म आसमान को सुना दिए,
आज मैं चुप हूँ और आसमान बरस रहा है।

Iss Bheege Bheege Mausam Mein Thi Aas Tumhare Aane Ki,
Tumko Agar Fursat Hi Nahi Toh Aag Lage Barsaton Ko.

इस भीगे भीगे मौसम में थी आस तुम्हारे आने की,
तुमको अगर फुर्सत ही नहीं तो आग लगे बरसातों को।

Tapish Aur Bard Gai In Chand Boondo Ke Baad,
Kaale Syah Badlo Ne Bhi Bas Yun Hi Bahlaya Mujhe.

तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदों के बाद,
काले सियाह बादलो ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे।

Main Tere Hijr Ki Barsaat Me Kab Tak Bheegun,
Aise Mausam Me To Deewarein Bhi Gir Jati Hain.

मैं तेरे हिज्र की बरसात में कब तक भीगूँ,
ऐसे मौसम में तो दीवारे भी गिर जाती हैं।

Ab Bhi Barsat Ki Raton Me Badan TootTa Hai,
Jaag Uthti Hain Ajab Khwahisen Angdaiyon Ki.

अब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है,
जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाईयों की।

Article Categories:
Barish Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.