banner
Apr 30, 2021
20 Views
0 0

Barish Shayari – Barsaat Ke Mousam Mein

Written by
banner

Wo Mere Ru-Ba-Ru Aya Bhi To Barsaat Ke Mousam Mein,
Mere Aansoo Beh Rahe The Wo Barsat Samajh Betha.

वो मेरे रु-बा-रु आया भी तो बरसात के मौसम में,
मेरे आँसू बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा।

Rahne Do Ki Ab Tum Bhi Mujhe Parh Na Sakoge,
Barsat Me Kagaj Ki Tarh Bheeg Gaya Hun Main.

रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे,
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं।

Khud Bhi Rota Hai Mujhe Bhi Rula Deta Hai,
Ye Barish Ka Mausam Uski Yaad Dila Deta Hai.

खुद भी रोता है मुझे भी रुला देता है,
ये बारिश का मौसम उसकी याद दिला देता है।

Iss Dafa To Barishein Rukti Hi Nahin Faraz,
Humne Kya Aansu Piye Ke Sare Mausam Ro Pade.

इस दफा तो बरिसें रूकती ही नहीं फ़राज़,
हमने क्या आँसू पिए के सारे मौसम रो पड़े।

Barishen Kuchh Iss Tarah Se Hoti Rahin Mujh Pe,
Khwahishen Sookhti Rahin Aur Palken Bheegti Rahin.

बारिशें कुछ इस तरह से होती रहीं मुझ पे,
ख्वाहिशें सूखती रहीं और पलकें रोतीं रहीं।

Toot Padati Theen Ghatayen Jin Ki Aankhein Dekh Kar,
Wo Bhar Barsaat Me Tarase Hain Paani Ke Liye.

टूट पड़ती थीं घटाएँ जिन की आँखें देख कर,
वो भरी बरसात में तरसे हैं पानी के लिए।

Barish Aur Mohabbat Dono Hi Yaadgar Hote Hain,
Barish Me Jism Bheegta Hai Aur Mohabbat Me Aankhen.

बारिश और मोहब्बत दोनो ही यादगार होते हैं,
बारिश में जिस्म भीगता है और मोहब्बत में आँखें।

Pahle Barish Hoti Thi To Yaad Aate The,
Ab Jab Yaad Aate Ho To Barish Hoti Hai.

पहले बारिश होती थी तो याद आते थे,
अब जब याद आते हो तो बारिश होती है।

Article Categories:
Barish Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.