banner
Apr 30, 2021
24 Views
0 0

Barish Shayari – Barisho Se Mohobbat Seekho

Written by
banner

Barisho Se Adab-E-Mohobbat Seekho Faraz,
Agar Ye Ruth Bhi Jayen To Barasti Bohot Hian.

बारिशों से अदब-ए-मोहब्बत सीखो फ़राज़,
अगर ये रूठ भी जाएँ, तो बरसती बहुत हैं।

Poochhte The Na Kitna Pyar Hai Tumhe Humse
Lo Ab Gin Lo… Barish Ki Ye Boonden.

पूछते थे ना कितना प्यार है तुम्हे हमसे,
लो अब गिन लो… बारिश की ये बूँदें।

Hum Bheegte Hain Jis Tarah Se Teri Yaadon Me Doobkar,
Iss Baarish Me Kahan Wo Kashish Tere Khayalon Jaisi.

हम भीगते हैं जिस तरह से तेरी यादों में डूबकर,
इस बारिश में कहाँ वो कशिश तेरे ख्यालों जैसी।

Ajab Lutf Ka Manzar Dekhta Rahta Hun Barish Mein,
Badan Jalta Hai Aur Main Bheegta Rahta Hun Barish Mein.

अजब लुत्फ़ का मंज़र देखता रहता हूँ बारिश में,
बदन जलता है और मैं भीगता रहता हूँ बारिश में।

Barish Ki Boondo Me Jhalakti Hai Tashveer Unki Aur,
Hum Unse Milne Ki Chahat Me Bheeg Jaate Hain.

बारिश की बूँदों में झलकती है तस्वीर उनकी और
हम उनसे मिलनें की चाहत में भीग जाते हैं।

Article Categories:
Barish Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.