banner
Apr 30, 2021
19 Views
0 0

Barish Shayari – Barish Ke Najrane

Written by
banner

Hairat Se Takta Hai Sahra Barish Ke Najrane Ko,
Kitni Door Se Aai Hai Ye Ret Se Hath Milane Ko.

हैरत से ताकता है सहरा बारिश के नज़राने को,
कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को।

Majbooriyan Odh Ke Nikalta Hun Ghar Se Aajkal,
Barna Shauk To Aaj Bhi Hai Barishon Me Bheegne Ka.

मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ घर से आजकल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशो में भीगने का।

Koi To Barish Aisi Ho Jo Tere Sath Barse Mohsin,
Tanha To Meri Aankhein Hr Roz Barsti Hein…

कोई तो बारिश ऐसी हो जो तेरे साथ बरसे मोसिन,
तन्हा तो मेरी ऑंखें हर रोज़ बरसाती हैं।

Aaj Fir Mausam Nam Hua Meri Aankho Ki Tarah,
Shayad Baadalo Ka Bhi Dil Kisi Ne Toda Hoga.

आज फिर मौसम नम हुआ मेरी आँखों की तरह,
शायद बादलो का भी दिल किसी ने तोड़ा होगा।

AbKe Barish Mein To Ye Kaar-E-Ziyaan Hona Hi Tha,
Apni Kachchi Bastiyon Ko Be-Nishaan Hona Hi Tha.

अबके बारिश में तो ये कार-ए-ज़ियाँ होना ही था,
अपनी कच्ची बस्तियों को बे-निशाँ होना ही था।

Khud Bhi Rota Hai Mujhe Bhi Rulata Hai,
Ye Barish Ka Mausam Uski Yaad Dila Jata.

खुद भी रोता है मुझे भी रुला के जाता है,
ये बारिश का मौसम उसकी याद दिला के जाता है।

Ye Barishen Bhi Kam Jaalim Nahin “Yaadon Ki Bauchhaar” Tumhari,
Aur Intezaar Mein Jazbaat Mere Seelan Khate Hain.

ये बारिशें भी कम जालिम नहीं “यादों की बौछार” तुम्हारी,
और इंतज़ार में जज़्बात मेरे सीलन खाते हैं।

Article Categories:
Barish Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.