banner
Apr 30, 2021
22 Views
0 0

Barish Shayari – Barish Ka Mausam

Written by
banner

Kahin Fisal Na Jao Jara Sambhal Ke Chalna,
Mausam Barish Ka Bhi Hai Aur Mohabbat Ka Bhi.

कहीं फिसल न जाओ जरा संभल के चलना,
मौसम बारिस का भी है और मोहब्बत का भी।

Barishon Mein Chalne Se Ek Baat Yaad Aati Hai,
Fisalne Ke Dar Se Wo Mera Hath Thaam Leta Tha.

बारिश में चलने से एक बात याद आती है,
फिसलने के डर से वो मेरा हाथ थाम लेता था।

Tere Khayalo Me Chalte Chalte Kahin Fisal Na Jayun Main,
Apni Yaadon Ko Rok Le Ke Shahar Me Barish Ka Mausam Hai.

तेरे ख्यालों में चलते चलते कहीं फिसल न जाऊं मैं,
अपनी यादों को रोक ले के शहर में बारिश का मौसम है।

Baras Rahi Thi Barish Baahar,
Aur Wo Bheeg Raha Tha Mujhme.

बरस रही थी बारिश बाहर,
और वो भीग रहा था मुझमें।

Peene Se Kar Chuka Tha Main Tauba Yaaro,
Baadalo Ka Rang Dekhkar Niyat Badal Gayi.

पीने से कर चुका था मैं तौबा यारो,
बादलों का रंग देखकर नियत बदल गई।

Yahii Ek Fark Hai Tere Or Mere Sahar Ki Barish Me,
Tere Yahan ‘Jaam’ Lagta Hai, Mere Yahan ‘Jaam’ Lagte Hain.

यही एक फर्क है तेरे और मेरे शहर की बारिश में
तेरे यहाँ ‘जाम’ लगता है, मेरे यहाँ ‘जाम’ लगते हैं।

Article Categories:
Barish Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.