banner
Apr 29, 2021
26 Views
0 0

Attitude Shayari – Zamane Mein Dum Nahi

Written by
banner

हमको मिटा सके वो ज़माने में दम नहीं,
हमसे ज़माना खुद है ज़माने से हम नहीं।
Humko Mita Sake Wo Zamane Mein Dum Nahi,
Humse Zamana Khud Hai Zamane Se Hum Nahi.

Zamane Mein Dum Nahi Shayari

ये मत समझ कि तेरे काबिल नहीं हैं हम,
तड़प रहे हैं वो जिसे हासिल नहीं हैं हम।
Ye Mat Samajh Ki Tere Kabil Nahi Hain Hum,
Tadap Rahe Hain Wo Jinhein Haasil Nahi Hain Hum.

हम भी बरगद के दरख़्तों की तरह हैं,
जहाँ दिल लग जाए वहाँ ताउम्र खड़े रहते हैं।
Hum Bhi Bargad Ke Darakhton Ki Tarah Hain,
Jahan Dil Lag Jaye Wahan TaUmr Khade Rehte Hain.

लाख तलवारें बढ़ी आती हों गर्दन की तरफ,
सर झुकाना नहीं आता तो झुकाए कैसे।
Lakh Talwarein Badi Aati Hon Gardan Ki Taraf,
Sar Jhukana Nahi Aata To Jhukayein Kaise.

छोड़ दी है अब हमने वो फनकारी वरना,
तुझ जैसे हसीन तो हम कलम से बना देते थे।
Chhod Di Hai Ab Humne Wo Fankaari Varna,
Tujh Jaise Haseen To Hum Kalam Se Bana Dete The.

की मोहब्बत तो सियासत का चलन छोड़ दिया,
हम अगर प्यार न करते तो हुकूमत करते।
Ki Mohabbat To Siyasat Ka Chalan Chhod Diya,
Hum Agar Pyar Na Karte To Hukoomat Karte.

Article Categories:
Attitude Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.