banner
Apr 29, 2021
44 Views
0 0

Attitude Shayari – Jeetne Ki Zid Hai Meri

Written by
banner

खुद से जीतने की जिद है मेरी,
मुझे खुद को ही हराना है,
मैं भीड़ नहीं हूँ दुनिया की,
मेरे अन्दर ही ज़माना है।
Khud Se Jeetne Ki Zidd Hai Meri,
Mujhe Khud Ko Hi Harana Hai,
Main Bheed Nahi Hoon Duniya Ki,
Mere Andar Hi Zamana Hai.

उसे लगता है कि उसकी चालाकियाँ
मुझे समझ नहीं आती,
मैं बड़ी खामोशी से देखता हूँ उसे
अपनी नजरों से गिरते हुए।
Usey Lagta Hai Ke Uski Chalaakiyan
Mujhe Samajh Nahi Aati,
Main Badi Khamoshi Se Dekhta Hoon Usey
Apni Najron Se Girte Hue.

वो खुद पे इतना गुरूर करते हैं
तो इसमें हैरत की बात नहीं,
जिन्हें हम चाहते हैं
वो आम हो ही नहीं सकते।
Wo Khud Par Garoor Karte Hain
To Isme Hairat Ki Koi Baat Nahi,
Jinhein Hum Chahte Hain
Wo Aam Ho Hi Nahi Sakte.

आदतें बुरी नहीं, शौक ऊँचे हैं,
वर्ना किसी ख्वाब की इतनी औकात नहीं
कि हम देखे और पूरा ना हो।
Aadtein Buri Nahi Shauk Oonche Hain,
Varna Kisi Khwaab Ki Itni Aukaat Nahi
Ki Hum Dekhen Aur Poora Na Ho.

Article Categories:
Attitude Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.