banner
Apr 29, 2021
39 Views
0 0

Ashq Shayari – Tumhari Aankh Mein Aansoo

Written by
banner

Abhi Se Kyun Chhalak Aaye Tumhari Aankh Mein Aansoo,
Abhi Chhedi Kahan Hai Daastaan-e-Zindagi Maine.
अभी से क्यों छलक आये तुम्हारी आँख में आँसू,
अभी छेड़ी कहाँ है दास्तान-ए-ज़िंदगी मैंने।

Jab Lafz Thak Gaye Toh Phir Aankhon Ne Baat Ki,
Jo Aankhein Bhi Thak Gayin Toh Ashqon Se Baat Hui.
जब लफ्ज़ थक गए तो फिर आँखों ने बात की,
जो आँखें भी थक गयीं तो अश्कों से बात हुई।

Pyaas Bujh Jaye Zamin Sabz Ho Manzar Dhul Jaye,
Kaam Kya Kya Na Inn Aankhon Ki Tari Aaye Humein.
प्यास बुझ जाये ज़मीं सब्ज़ हो मंज़र धुल जाये,
काम क्या क्या न इन आँखों की तरी आये है।

Tumhari Yaad Mein Aansoo Bahana Yun Bhi Jaroori Hai,
Ruke Dariya Ke Paani Ko Toh Pyasa Bhi Nahi Chhuta.
तुम्हारी याद में आँसू बहाना यूँ भी जरूरी है,
रुके दरिया के पानी को तो प्यासा भी नहीं छूता।

Bahut Ajeeb Hain Tere Baad Ki Ye Barsaatein Bhi,
Hum Aksar Band Kamron Mein Bheeg Jaate Hain.
बहुत अजीब हैं तेरे बाद की ये बरसातें भी,
हम अक्सर बन्द कमरे में भीग जाते हैं।

Jo Hairan Hain Mere Sabr Par Unse Kah Do,
Jo Aansoo Zamin Par Nahi Girte Dil Cheer Dete Hain.
जो हैरान है मेरे सब्र पर उनसे कह दो.
जो आँसू जमीं पर नहीं गिरते दिल चीर जाते हैं।

Article Categories:
Ashq Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.