banner
Apr 29, 2021
28 Views
0 0

Ashq Shayari – Palkon Se Ashq Gira Hai

Written by
banner

पलकों से अश्क़ गिरा है तो उसे गिरने दो,
सीने में कोई पुरानी तमन्ना पिघल रही होगी।
Palkon Se Ashq Gira Hai To Usey Girne Do,
Seen Mein Koi Puraani Tamanna Pighal Rahi Hogi.

वापसी का सफर अब मुमकिन न होगा।
हम तो निकल चुके हैं आँख से आँसू की तरह।
Waapsi Ka Safar Ab Mumkin Na Hoga,
Hum To Nikal Chuke Hain Aankh Se Aansoo Ki Tarah.

जो हैरान है मेरे सब्र पर उनसे कह दो,
जो आँसू जमीं पर नहीं गिरते दिल चीर जाते हैं।
Jo Hairan Hain Mere Sabr Par Unse Kah Do,
Jo Aansoo Zamin Par Nahi Girte Dil Cheer Dete Hain.

हर बात पर नम हो जाती हैं आँखें अक्सर,
जहाँ भर के अश्क़ खुदा पलकों में रख बैठा।
Har Baat Par Nam Ho Jati Hain Aankhein Aksar,
Jahan Bhar Ke Ashq Khuda Palkon Mein Rakh Baithha.

Article Categories:
Ashq Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.