banner
Apr 29, 2021
20 Views
0 0

Ashq Shayari – Barasti Hain Aankhein

Written by
banner

Kabhi Barsaat Ka Mazaa Chaho,
Toh Inn Aankhon Mein Aa Baitho
Woh Barson Mein Kabhi Barsate Hain
Yeh Barson Se Barasti Hain.
कभी बरसात का मज़ा चाहो,
तो इन आँखों में आ बैठो,
वो बरसों में कभी बरसती है,
ये बरसों से बरसती हैं।

Jinke Pyar Bichhade Hain
Unka Sukoon Se Kya Talluq,
Unki Aankhon Mein Neend Nahi
Sirf Aansoo Aaya Karte Hain.
जिनके प्यार बिछड़े है
उनका सुकून से क्या ताल्लुक़,
उनकी आँखों में नींद नहीं
सिर्फ आँसू आया करते है।

Tere Na Hone Se Zindagi Mein
Bas Itni Si Kami Rehti Hai,
Main Lakh Muskuraaun Phir Bhi
Inn Aankhon Mein Nami Rehti Hai.
तेरे ना होने से ज़िंदगी में
बस इतनी सी कमी रहती है,
मैं लाख मुस्कुराऊँ फिर भी
इन आँखों में नमी रहती है।

Saath Bitayi Tere Sang Woh
Shaam Suhani Zinda Hai,
Honthh Bhale Hi Sookhe Ho
Par Aankh Mein Paani Zinda Hai.
साथ बिताई तेरे संग वो
शाम सुहानी जिंदा है,
होंठ भले ही सूखे हों
पर आँख मे पानी जिंदा है।

Article Categories:
Ashq Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.