banner
Apr 29, 2021
23 Views
0 0

Ashq Shayari – Aansuon Mein Nahayi Raat

Written by
banner

Phir Aaj Aansuon Mein Nahayi Huyi Hai Raat,
Shayad Humari Tarah Hi Sataayi Huyi Hai Raat.
फिर आज आँसुओं में नहाई हुई है रात,
शायद हमारी तरह ही सताई हुई है रात।

Na Jaane Kaun Sa Aansoo Mera Raaz Khol De,
Hum Iss Khayal Se Najrein Jhukaye Baithhe Hain.
न जाने कौन सा आँसू मेरा राज़ खोल दे,
हम इस ख़्याल से नज़रें झुकाए बैठे हैं।

Usne Bas Yoon Hi Udaasi Ka Sabab Puchha Tha,
Meri Aankhon Mein Simat Aaye Samandar Saare.
उसने बस यूँ ही उदासी का सबब पूछा था,
मेरी आँखों में सिमट आये समंदर सारे।

Likhna Toh Tha Ki Khush Hoon Tere Bagair Bhi,
Aansoo Magar Kalam Se Pehle Hi Gir Gaye.
लिखना तो था कि खुश हूँ तेरे वगैर भी,
आँसू मगर कलम से पहले ही गिर पड़े।

Baarishein Ho Hi Jaati Hain Shahar Mein Faraz,
Kabhi Badalon Se… Toh Kabhi Aankho Se.
बारिशें हो ही जाती हैं शहर में फ़राज़,
कभी बादलों से तो कभी आँखों से।

Chain Milta Tha Jise Aake Panaahon Mein Meri,
Aaj Deta Hai Wahi Ashq Nigaahon Mein Meri.
चैन मिलता था जिसे आ के पनाहों में मेरी,
आज देता है वही अश्क निगाहों में मेरी।

Article Categories:
Ashq Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.