banner
Apr 29, 2021
24 Views
0 0

Ashq Shayari – Aansuon Ki Barsaat Huyi

Written by
banner

Sadiyon Baad Uss Ajnabi Se Mulakaat Huyi,
Aankhon Hi Aankho Mein Chahat Ki Har Baat Huyi,
Jaate Huye Usne Dekha Mujhe Chahat Bhari Najron Se,
Meri Bhi Aankhon Se Aansuon Ki Barsaat Huyi.
सदियों बाद उस अजनबी से मुलाक़ात हुई,
आँखों ही आँखों में चाहत की हर बात हुई,
जाते हुए उसने देखा मुझे चाहत भरी निगाहों से,
मेरी भी आँखों से आंसुओं की बरसात हुई।

Mujko Rula Kar Dil Uska Bi Roya Toh Hoga,
Uski Aankho Mein Bhi Aansu Aaya Toh Hoga,
Agar Na Kiya Kuchh Haasil Hamne Pyar Mein,
Kuchh Na Kuchh Usne Bi Khoya Toh Hoga.
मुझको रुला कर दिल उसका रोया तो होगा,
उसकी आँखों में भी आँसू आया तो होगा,
अगर न किया कुछ भी हासिल हमने प्यार में,
कुछ न कुछ उसने भी खोया तो होगा।

Kya Aaye Tum Jo Aaye Ghadi Do Ghadi Ke Baad,
Seene Mein Hogi Saans Atki Do Ghadi Ke Baad,
Kya Roka Apne Girye Ko Hum Ne Ke Lag Gayi,
Fir Wahi Aansuon Ki Jhadi Do Ghadi Ke Baad.
क्या आये तुम जो आये घड़ी दो घड़ी के बाद,
सीने में होगी सांस अड़ी दो घड़ी के बाद,
क्या रोका अपने गिर्ये को हम ने कि लग गयी,
फिर वही आँसुओं की झड़ी दो घड़ी के बाद।
(Sheikh Ibrahim Zauq)

Humein Aansuon Se Zakhmon Ko Dhona Nahi Aata,
Milti Hai Khushi Toh Use Khona Nahi Aata,
Sah Lete Hain Har Gham Ko Jab HansKar Hum,
Toh Log Kehte Hain Ke Humein Rona Nahi Aata.
हमें आँसुओं से ज़ख्मों को धोना नहीं आता,
मिलती है ख़ुशी तो उसे खोना नहीं आता,
सह लेते हैं हर ग़म को जब हँसकर हम,
तो लोग कहते है कि हमें रोना नहीं आता।

Article Categories:
Ashq Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.