banner
May 4, 2021
3 Views
0 0

Broken Heart Shayari – Kahin Bhi Haadsa Gujre

Written by
banner

Jahan Dariya Kahin Apne Kinare Chhod Deta Hai,
Koyi Uthta Hai Aur Tufan Ka Rukh Mod Deta Hai,
Mujhe Majboor Pa Kar Bhi Khauf Uska Nahi Jata,
Kahin Bhi Haadsa Gujre Toh Mujh Se Jod Deta Hai.
जहाँ दरिया कहीं अपने किनारे छोड़ देता है,
कोई उठता है और तूफाँ का रुख मोड़ देता है,
मुझे मजबूर पा करके भी खौफ उसका नहीं जाता,
कहीं भी हादसा गुज़रे वो मुझसे जोड़ देता है।

Khulte Bhi Bhala Kaise Aansoo Mere Auron Par,
Hans-Hans Ke Jo Main Apne Halat BaratTa Hun,
Milte Rahe Duniya Se Jo Zakhm Mere Dil Ko,
Unko Bhi Samajhkar Main Saugat BartTa Hun.
खुलते भी भला कैसे आँसू मेरे औरों पर,
हँस-हँस के जो मैं अपने हालात बरतता हूँ,
मिलते रहे दुनिया से जो ज़ख्म मेरे दिल को,
उनको भी समझकर मैं सौगात बरतता हूँ।

Duniya Mein Ulfat Ka Yeh Dastoor Hota Hai,
Jisse Dil Se Chaho Wahi Hamse Dur Hota Hai,
Dil Toot Kar Bikharta Hai Iss Kadar Jaise,
Kanch Ka Khilona Girke Choor Choor Hota Hai.
दुनिया में उल्फत का यह दस्तूर होता है,
जिसे दिल से चाहो वही हमसे दूर होता है,
दिल टूट कर बिखरता है इस कदर जैसे,
काँच का खिलौना गिरके चूर-चूर होता है।

Article Categories:
Broken Heart Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.