banner
May 4, 2021
3 Views
0 0

Bollywood Shayari – Filmi Shayari Raaz Movie

Written by
banner

Garmi-e-Hasrat-e-Nakaam Se Jal Jaate Hai,
Hum Chiragon Ki Tarah Shaam Se Jal Jaate Hai,
Shama Jis Aag Mein Jalti Hai Numaish Ke Liye,
Hum Ussi Aag Mein Gumnaam Se Jal Jaate Hai,
Jab Bhi Aata Hai Tera Naam Mere Naam Ke Saath,
Jaane Kyun Log Mere Naam Se Jal Jaate Hai.

गर्मी-ए-हसरत-ए-नाकाम से जल जाते हैं,
हम चिरागों की तरह शाम से जल जाते हैं,
शमा जिस आग में जलती है नुमाइश के लिए,
हम उसी आग में गुमनाम से जल जाते हैं,
जब भी आता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ,
जाने क्यूँ लोग मेरे नाम से जल जाते हैं।

Saare Jahan Ka Dard Sametkar,
Jab Kudrat Se Kuch Na Ban Saka
Toh Usne Tumhari Yeh Do Aankhein Bana Di.

सारे जहां का दर्द समेट कर,
जब कुछ न बन सका तो,
उसने तुम्हारी यह दो आँखें बना दी।

Faasla Shiddat-e-Ehsaas Se Kam Hota Hai,
Ek Zara Haath Bada Do Toh Chu Loon Tumhein.

फासला शिद्दत-ए-एहसास से कम होता है,
एक ज़रा हाथ बढ़ा दो तो छू लूँ तुम्हें।

Article Categories:
Bollywood Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.