banner
Apr 30, 2021
6 Views
0 0

Bewafa Shayari – Gam Nahin Unki Bewahai Ka

Written by
banner

Kaash Ki Ham Unke Dil Pe Raaz Karte,
Jo Kal Tha Wahi Pyar Aaj Karte,
Hamen Gam Nahin Unki Bewahai Ka,
Bas Araman Tha Ki…
Ham Bhi Apne Pyar Par Naaz Karte.

काश कि हम उनके दिल पे राज़ करते,
जो कल था वही प्यार आज करते,
हमें ग़म नहीं उनकी बेवफाई का,
बस अरमां था कि…
हम भी अपने प्यार पर नाज़ करते।

Wo Khuda Tha Mera Ab Mera Eemaan Hai,
Chala Gaya Chhod Kar Isaliye Dil Udaas Hai,
Bewafa Nahi Kahunga Main Usko,
Kyuki Ishq Karna Uska Mujh Par Ahasan Hai.

वो खुदा था मेरा अब मेरा ईमान है,
चला गया छोड़ कर इसलिए दिल उदास है,
बेवफा नही कहूंगा मैं उसको,
क्यूंकी इश्क़ करना उसका मुझ पर अहसान है।

Haseeno Ne Haseen Bankar Gunah Kiya,
Auro Ko To Kya Hamako Bhi Tabah Kiya,
Pesh Kiya Jab Gazlon Mein Hamne Unki Bewafai Ko,
Auron Ne To Kya Unhone Bhi Waah Waah Kiya.

हसीनों ने हसीन बन कर गुनाह किया,
औरों को तो क्या हमको भी तबाह किया,
पेश किया जब ग़ज़लों में हमने उनकी बेवफाई को,
औरों ने तो क्या उन्होंने भी वाह वाह किया।

Wafa Ke Naam Se Wo Anajaan The,
Kisi Ki Bewaphai Se Shayad Pareshaan The,
Hamane Wafa Deni Chahi To Pata Chala,
Ham Khud Bewafa Ke Naam Se Badanam The.

वफ़ा के नाम से वो अनजान थे,
किसी की बेवफाई से शायद परेशान थे,
हमने वफ़ा देनी चाही तो पता चला,
हम खुद बेवफा के नाम से बदनाम थे।

Article Categories:
Bewafa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.