banner
Apr 30, 2021
3 Views
0 0

Bewafa Shayari – Dil Mein Rahkar Bewafai

Written by
banner

Ai Dost Kabhi Zikr-E-Judai Na Karna,
Mere Bharose Ko Rusva Na Karna,
Dil Mein Tere Koyi Aur Bas Jaaye To Bata Dena,
Mere Dil Mein Rahkar Bewafai Na Karna.

ऐ दोस्त कभी ज़िक्र-ए-जुदाई न करना,
मेरे भरोसे को रुस्वा न करना,
दिल में तेरे कोई और बस जाये तो बता देना,
मेरे दिल में रहकर बेवफाई न करना।

Jo Bhi Mila Wo Ham Se Khafa Mila,
Dekho Dosti Ka Kya Sila Mila,
Umr Bhar Rahi Faqat Wafa Ki Talash,
Par Har Shakhs Mujhko Bewafa Mila.

जो भी मिला वो हम से खफा मिला,
देखो दोस्ती का क्या सिला मिला,
उम्र भर रही फ़क़त वफ़ा की तलाश,
पर हर शख्स मुझको बेवफ़ा मिला।

Gunaah Karke Saza Se Darte Hain,
Pee Ke Zahar Dava Se Darte Hain,
Dushmano Ke Sitam Ka Khauf Nahi Hamko,
Ham To Doston Ki Bewafai Se Darte Hain.

गुनाह करके सज़ा से डरते हैं,
पी के ज़हर दवा से डरते हैं,
दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं हमको,
हम तो दोस्तों की बेवफाई से डरते हैं।

Bewafa Se Kabhi Pyar Nahin Hota,
Marne Ke Baad Intazaar Nahin Hota,
Dosti Dekh Kar Karna Mere Dost,
Har Dost Bafadaar Nahin Hota.

बेवफ़ा से कभी प्यार नहीं होता,
मरने के बाद इंतज़ार नहीं होता,
दोस्ती देख कर करना मेरे दोस्त,
हर दोस्त वफ़ादार नहीं होता।

Article Categories:
Bewafa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.